featuredHala

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है

 

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है;
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी।

जिगर की आग बुझे जिससे जल्द वो शय ला, लगा के बर्फ़ में साक़ी, सुराही-ए-मय ला।

जिगर की आग बुझे जिससे जल्द वो शय ला,
लगा के बर्फ़ में साक़ी, सुराही-ए-मय ला।

पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर 'जलील'

पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर ‘जलील’;
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई।

ऐ ज़ौक़ देख दुख़्तर-ए-रज़ को न मुँह लगा,

ऐ ज़ौक़ देख दुख़्तर-ए-रज़ को न मुँह लगा,
छुटती नहीं है मुँह से ये काफ़र लगी हुई।

आता है जी में साक़ी-ए-मह-वश पे बार बार

आता है जी में साक़ी-ए-मह-वश पे बार बार,
लब चूम लूँ तिरा लब-ए-पैमाना छोड़ कर।

Tags

Related Articles

23 thoughts on “नशा पिला के गिराना तो सब को आता है”

  1. Pingback: رطوبت ساز
  2. Pingback: مه پاش
  3. Pingback: Interracial Porn
  4. Pingback: cat drawing
  5. Pingback: porn movies
  6. Pingback: garden
  7. Pingback: Eenleukdagjeuit.nl
  8. Pingback: مه ساز
  9. Pingback: Fashion

Leave a Reply