Category: Dalit Poetry

सच / रामभरत पासी

भूख की बगल में दबी-छटपटाती आत्मा को धीरे-धीरे शरीर से अलग होते देखा है कभी? या देखा है उन्हें भी जो गढ़ते हैं शकुनि के पाँसे— निर्विकार भाव से …

समानान्तर इतिहास / नीरा परमार

इतिहास राजपथ का होता है पगडंडियों का नहीं! सभ्यताएँ / बनती हैं इतिहास और सभ्य / इतिहास पुरुष! समय उस बेनाम क़दमों का क़ायल नहीं जो अनजान दर्रों जंगलों …

सलाह / निशांत

वह हरिजन था उसने मन्दिर में प्रवेश करने की कोशिश की और तुमने उसे क़त्ल कर दिया वैसे इसकी ज़रा भी ज़रुरत नहीं थी तुम उसे विज्ञान और नये …

सिंहावलोकन / लक्ष्मी नारायण सुधाकर

वध करने ‘शम्बूक’ तुम्हारा फिर से राम चला है सावधान! ‘बलि’ भारत में युग-युग से गया छला है दम्भी-छल-कपटी द्विजाचार अब तक वह शत्रु हमारा ‘एकलव्य’ अँगूठा काट रहा …

सियासत / सी.बी. भारती

परम्परागत-कलुषित निहित स्वार्थवश निर्मित मकड़जाल तुम्हारी शक्ति और धर्म का अवलम्ब से बढ़ता रहा अन्धविश्वासों का आश्रय ले उसकी शक्ति पली-पुसी बढ़ी शोषण का एक नायाब तरीक़ा चलता रहा …