Contemporary Hindi-Urdu PoetryDushyant Kumarशेर-ओ-शायरी

वो मुतमइन हैं कि पत्थर पिघल नहीं सकता

वो मुतमइन हैं कि पत्थर पिघल नहीं सकता

Tags

Related Articles

Leave a Reply