GhazalHindi-Urdu Poetryजाँ निसार अख़्तर

इसी सबब से हैं शायद, अज़ाब जितने हैं

इसी सबब से हैं शायद, अज़ाब जितने हैं

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Check Also

Close