featuredHindi-Urdu Poetry

खुदा / रात पश्मीने की / गुलज़ार

बुरा लगा तो होगा ऐ खुदा तुझे,

बुरा लगा तो होगा ऐ खुदा तुझे,
दुआ में जब,
जम्हाई ले रहा था मैं–
दुआ के इस अमल से थक गया हूँ मैं !
मैं जब से देख सुन रहा हूँ,
तब से याद है मुझे,
खुदा जला बुझा रहा है रात दिन,
खुदा के हाथ में है सब बुरा भला–
दुआ करो !
अजीब सा अमल है ये
ये एक फ़र्जी गुफ़्तगू,
और एकतरफ़ा–एक ऐसे शख्स से,
ख़याल जिसकी शक्ल है
ख़याल ही सबूत है.


 

मैं दीवार की इस जानिब हूँ .

मैं दीवार की इस जानिब हूँ .
इस जानिब तो धूप भी है हरियाली भी !
ओस भी गिरती है पत्तों पर,
आ जाये तो आलसी कोहरा,
शाख पे बैठा घंटों ऊँघता रहता है.
बारिश लम्बी तारों पर नटनी की तरह थिरकती,
आँखों से गुम हो जाती है,
जो मौसम आता है,सारे रस देता है !

लेकिन इस कच्ची दीवार की दूसरी जानिब,
क्यों ऐसा सन्नाटा है
कौन है जो आवाज नहीं करता लेकिन–
दीवार से टेक लगाए बैठा रहता है.


 

पिछली बार मिला था जब मैं

पिछली बार मिला था जब मैं
एक भयानक जंग में कुछ मशरूफ़ थे तुम
नए नए हथियारों की रौनक से काफ़ी खुश लगते थे
इससे पहले अन्तुला में
भूख से मरते बच्चों की लाश दफ्नाते देखा था
और एक बार …एक और मुल्क में जलजला देखा
कुछ शहरों के शहर गिरा के दूसरी जानिब
लौट रहे थे
तुम को फलक से आते भी देखा था मैंने
आस पास के सय्यारों पर धूल उड़ाते
कूद फलांग के दूसरी दुनियाओं की गर्दिश
तोड़ ताड़ के गेलेक्सीज के महवर तुम
जब भी जमीं पर आते हो
भोंचाल चलाते और समंदर खौलाते हो
बड़े ‘इरेटिक’ से लगते हो
काएनात में कैसे लोगों की सोहबत में रहते हो तुम


 

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैंने--

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैंने–

काले घर में सूरज रख के,
तुमने शायद सोचा था, मेरे सब मोहरे पिट जायेंगे,
मैंने एक चिराग जला कर,
अपना रास्ता खोल लिया

तुमने एक समंदर हाथ में लेकर, मुझ पर ढेल दिया
मैंने नूह की कश्ती उसके ऊपर रख दी
काल चला तुमने, और मेरी जानिब देखा
मैंने काल को तोड़ के लम्हा लम्हा जीना सीख लिया

मेरी खुदी को तुमने चंद चमत्कारों से मारना चाहा
मेरे एक प्यादे ने तेरा चाँद का मोहरा मार लिया —

मौत की शह देकर तुमने समझा था अब तो मात हुई
मैंने जिस्म का खोल उतर के सौंप दिया –और
रूह बचा ली

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर अब तुम देखो बाजी


 

Tags

Related Articles

53 thoughts on “खुदा / रात पश्मीने की / गुलज़ार”

  1. Pingback: __p11
  2. Pingback: mujer deporte
  3. Pingback: 网站132
  4. Pingback: Louboutin Outlet
  5. Pingback: Recipes
  6. Pingback: in life PK studies
  7. Pingback: Predrag Timotic
  8. Pingback: Bangalore Escorts
  9. Pingback: Kolkata Escorts
  10. Pingback: Goa Escorts
  11. Pingback: Cheap hoverboard

Leave a Reply