इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ / अहमद फ़राज़

इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ

इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ
क्यूँ न ए दोस्त हम जुदा हो जाएँ


तू भी हीरे से बन गया पत्थर

तू भी हीरे से बन गया पत्थर
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ


हम भी मजबूरियों का उज़्र करें

हम भी मजबूरियों का उज़्र करें
फिर कहीं और मुब्तिला हो जाएँ


अब के गर तू मिले तो हम तुझसे

अब के गर तू मिले तो हम तुझसे
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएँ

[qabaa=dress]


बंदगी हमने छोड़ दी फ़राज़

बंदगी हमने छोड़ दी फ़राज़
क्या करें लोग जब खुदा हो जाएँ

अहमद फ़राज़

Leave a Reply