Hindi-Urdu Poetryजाँ निसार अख़्तरशेर-ओ-शायरी

हर एक रूह में एक ग़म छुपा लगे है मुझे

हर एक रूह में एक ग़म छुपा लगे है मुझे

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Check Also

Close