‘अनवर’ साबरी

  • ‘अनवर’ साबरी

    1. रहते हुए क़रीब जुदा हो गए हो तुम बंदा-नवाज़ जैसे ख़ुदा हो गए हो तुम मजबूरियों को देख के…

    Read More »