Hindi-Urdu PoetryKhat Shayari

Khat…tere naam!

लिखना है मुझे भी कुछ ऐसा......


वो खुद से यूँ खफा हुआ, मेरी जिंदगी से चला गया नाकामियों के हर्फ से एक खत मिला लिखा हुआ.


काश कि उसने पढ़ लिए होते वो खत


तेरी खुशबु से भरे ख़त मैं जलाता कैसे


मुस्कुरा देता हूँ अक्सर देखकर पुराने

Related Articles

Leave a Reply