Gulzar

गुलज़ार की बोस्की /Gulzar Ki Boski

बोस्की ब्याहने का समय अब करीब आने लगा है

 

बोस्की ब्याहने का समय अब करीब आने लगा है
जिस्म से छूट रहा है कुछ कुछ
रूह में डूब रहा है कुछ कुछ
कुछ उदासी है,सुकूं भी
सुबह का वक्त है पौ फटने का,
या झुटपुटा शाम का है मालूम नहीं
यूँ भी लगता है कि जो मोड़ भी अब आएगा
वो किसी और तरफ़ मुड़ के चली जाएगी,
उगते हुए सूरज की तरफ़
और मैं सीधा ही कुछ दूर अकेला जा कर
शाम के दूसरे सूरज में समा जाऊँगा !


बोस्की

नाराज़ है मुझसे बोस्की शायद
जिस्म का एक अंग चुप चुप सा है
सूजे से लगते है पांव
सोच में एक भंवर की आँख है
घूम घूम कर देख रही है

बोस्की,सूरज का टुकड़ा है
मेरे खून में रात और दिन घुलता रहता है
वह क्या जाने,जब वो रूठे
मेरी रगों में खून की गर्दिश मद्धम पड़ने लगती है.


Tags

Related Articles

36 thoughts on “गुलज़ार की बोस्की /Gulzar Ki Boski”

  1. Pingback: 网站
  2. Pingback: 主1页
  3. Pingback: 45
  4. Pingback: Recipe Videos
  5. Pingback: Java Tutorial
  6. Pingback: genericspharm
  7. Pingback: click for details
  8. Pingback: go to the source
  9. Pingback: address
  10. Pingback: continued here
  11. Pingback: page
  12. Pingback: read article
  13. Pingback: view more
  14. Pingback: click to read more
  15. Pingback: jhfn e
  16. Pingback: Predrag Timotić
  17. Pingback: boutique en ligne

Leave a Reply