Hindi-Urdu Poetry

Collection of Munawwar Rana Shayari and Ghazals | मुनव्वर राना


ये ऐसा क़र्ज़ है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता


 

बुलंदी देर तक किस शख्श के हिस्से में रहती है

बुलंदी देर तक किस शख्श के हिस्से में रहती है
बहुत ऊँची इमारत हर घडी खतरे में रहती है
*****
ये ऐसा क़र्ज़ है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर न लौटूं, मेरी माँ सज़दे में रहती है
*****
जी तो बहुत चाहता है इस कैद-ए-जान से निकल जाएँ हम
तुम्हारी याद भी लेकिन इसी मलबे में रहती है
*****
अमीरी रेशम-ओ-कमख्वाब में नंगी नज़र आई
गरीबी शान से एक टाट के परदे में रहती है
*****
मैं इंसान हूँ बहक जाना मेरी फितरत में शामिल है
हवा भी उसको छू के देर तक नशे में रहती है
*****
मोहब्बत में परखने जांचने से फायदा क्या है
कमी थोड़ी बहुत हर एक के शज़र* में रहती है
*****
ये अपने आप को तकसीम* कर लेते है सूबों में
खराबी बस यही हर मुल्क के नक़्शे में रहती है
*****
शज़र  =  पेड़
तकसीम  =  बांटना


Bulandi der tak kis shakhsh ke hisse me rahti hai

Bulandi der tak kis shakhsh ke hisse me rahti hai
Bahut oonchi imaarat har ghadi khatre me rahti hai
*****
Ye aisa karz hai jo main adaa kar hi nahi sakta
Main jab tak ghar na lautoon, meri maa sazde me rahti hai
*****
Jee to bahut chahta hai is kaid-e-jaan se nikal jaayen hum
Tumhari yaad bhi lekin isi malbe me rahti hai
*****
Ameeree resham-o-kamkhwaab me nangee nazar aaee
Garibi shaan se ek taat ke parde me rahti hai
*****
Main insaan hoon bahak jaana meri fitrat me shamil hai
Hawaa bhi usko choo ke der tak nashe me rhati hai
*****
Mohabbat me parakhne jaanchne se faayda kyaa hai
Kami thodi bahut har ek shazre me rahti hai
*****
Ye apne aap ko takseem kar lete hai soobon me
Kharaabi bas yahi har mulk ke nakshe me rahti hai

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है
न रोया कर बहुत रोने से छाती बैठ जाती है

*****

यही मौसम था जब नंगे बदन छत पर टहलते थे
यही मौसम है अब सीने में सर्दी बैठ जाती है

*****

चलो माना कि शहनाई मोहब्बत की निशानी है
मगर वो शख्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है ?

*****

बढ़े बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं ?
कुएं में छुप के क्यों आखिर ये नेकी बैठ जाती है ?

*****

नक़ाब उलटे हुए गुलशन से वो जब भी गुज़रता है
समझ के फूल उसके लब पे तितली बैठ जाती है

*****

सियासत नफ़रतों का ज़ख्म भरने ही नहीं देती
जहाँ भरने पे आता है तो मक्खी बैठ जाती है

*****

वो दुश्मन ही सही आवाज़ दे उसको मोहब्बत से
सलीक़े से बिठा कर देख हड्डी बैठ जाती है


Bhaut paani barasta hai toh mitti baith jaati hai

Bhaut paani barasta hai to mitti baith jaati hai
Na roya kar bahut rone se chhaati baith jaati hai
*****
Ye hi mousam tha jab nange badan chhat par tahalte the
Ye hi mousam hai ab seene mein sardi baith jaati hai
*****
Chalo maana ki shahanai masarrath ki nishaani hai
Magar woh shakhs jiski aake beti baith jaati hai?
*****
Bade budhe kuwen mein nekiyan kyon phenk aate hain
Kuwen mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jaati hai
*****
Nakaab ulte hue gulshan se wo jab bhi gujarta hai
Samjh ke phool uske lab pe titali baith jaati hai
*****
Siyaast nafraton ka zakhm bharne hi nahi deti
jahan bharne pe aata hai to makkhi baith jaati hai
*****
Main dushman hi sahi aawaaz de mujh ko mohabbat se
Saleeqe se bitha kar dekh haddi baith jaati hai

सब के कहने से इरादा नहीं बदला जाता

सब के कहने से इरादा नहीं बदला जाता
हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता
*****
हम तो शायर हैं सियासत नहीं आती हमको
हम से मुंह देखकर लहजा नहीं बदला जाता
*****
हम फकीरों को फकीरी का नशा रहता हैं
वरना क्या शहर में शजरा* नहीं बदला जाता
*****
ऐसा लगता हैं के वो भूल गया है हमको
अब कभी खिडकी का पर्दा नहीं बदला जाता
*****
जब रुलाया हैं तो हसने पर ना मजबूर करो
रोज बीमार का नुस्खा नहीं बदला जाता
*****
गम से फुर्सत ही कहाँ है के तुझे याद करू
इतनी लाशें हैं तो कान्धा नहीं बदला जाता
*****
उम्र एक तल्ख़ हकीकत हैं दोस्तों फिर भी
जितने तुम बदले हो उतना नहीं बदला जाता
*****
शजरा = वंश क्रम का चार्ट

Sab ke kehne se iraada nahi badla jata

Sab ke kehne se iraada nahi badla jata
Har saheli se dupatta nahi badla jaata
*****
Hum ke shayar hain siyasat nahi aati humko
Humse munh dekh ke lehza hain badla jaata
*****
Hum fakiron ko fakiri ka nasha rehta hain
Warna kya shaher mein shajra nahi badla jata
*****
Aisa lagta hain ki wo bhool gaya hain humko
Ab kabhi khidki ka parda nahi badla jaata
*****
Jab rulaaya hain to hasne pe na majboor karo
Roz beemaar ka nuskha nahi badla jaata
*****
Gham se fursat hi kahan hain ke tujhe yaad karoon
Itni laashen hain to kadhan nahi badla jaata
*****
Umar ek talkh hakikat hain dosto phir bhi
Jitne tum Badle ho Utna nahi badla jaata

Tweets


 


 

Related Articles

Leave a Reply

Check Also

Close