‘असअद’ भोपाली

  • ‘असअद’ भोपाली

    1. कुछ भी हो वो अब दिल से जुदा हो नहीं सकते हम मुजरिम-ए-तौहीन-ए-वफ़ा हो नहीं सकते ऐ मौज-ए-हवादिस तुझे…

    Read More »