अनवर मसऊद

  • अनवर मसऊद

    जो बारिशों में जले, तुंद आँधियों में जले चराग वो जो बगोलों की चिमनियों में जले वो लोग थे जो…

    Read More »