अनन्त कौर

  • अनन्त कौर

    1. तिरे ख़्याल के साँचे में ढलने वाली नहीं मैं ख़ुशबुओं की तरह अब बिखरने वाली नहीं तू मुझको मोम…

    Read More »