अंजुम सलीमी

  • अंजुम सलीमी

    1. दीवार पे रक्खा तो सितारे से उठाया दिल बुझने लगा था सो नज़ारे से उठाया बे-जान पड़ा देखता रहता…

    Read More »