featuredHindi-Urdu Poetryमिर्जा गालिब

Best of Mirza Ghalib (मिर्ज़ा ग़ालिब)

Ragon me dodne firne ke hum nahi kayal mirza ghalib shayri nazm

1

बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना

Bas ki dushwaar hai har kaam ka aasaan hona
Aadami ko bhi mayssar nahin insaan hona

*****
2

अपनी गली में मुझ को न कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल
मेरे पते से ख़ल्क़* को क्यूँ तेरा घर मिले

खल्क  =  जनता

Apni gali mein mujh ko na kar dafn baad-e-qatl
Mere pate se khlk ko kyun tera ghar mile

*****
3

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

Aaina kyun na dun ki tamaasha kahein jise
Aisa kahan se laaun ki tujh sa kahein jise

*****
4

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर* होते तक

सर  =  सुलझाना

Aah ko chahiye ik umar asar hote tak
Kaun jeeta hain teri julf ke sar hote tak

*****
5

आज हम अपनी परेशानी-ए-ख़ातिर उन से
कहने जाते तो हैं पर देखिए क्या कहते हैं

Aaj ham apni pareshani-e-khatir un se
Kehane jaate to hain par dekhiye kya kehate hain

*****
6

आज वाँ तेग़* ओ कफ़न बाँधे हुए जाता हूँ मैं
उज़्र* मेरे क़त्ल करने में वो अब लावेंगे क्या

तेग  =  तलवार,   उज्र  =  दलील, क्षमा

Aaj wahan teg o kafan baandhe hue jaata hun mein
Urj mere qatl karne mein wo ab laavenge kya

*****
7

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था

Aaina dekh apna sa munh le ke rah gaye
Sahab ko dil na dene pe kitana gurur tha

*****
8

बना कर फ़क़ीरों का हम भेस ‘ग़ालिब’
तमाशा-ए-अहल-ए-करम देखते हैं

Bana kar faqiron ka ham bhes ‘Ghalib’
Tamaasha-e-ahal-e-karam dekhte hain

*****
9

आए है बे-कसी-ए-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’
किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद

Aaye hain be-kasi-e-ishq pe rona Ghalib
Kis ke ghar jaayega sailaab-e-bala mere baad

*****
10

बोसा देते नहीं और दिल पे है हर लहज़ा निगाह
जी में कहते हैं कि मुफ़्त आए तो माल अच्छा है

बोसा  =  चुम्बन

Bosa dete nahin aur dil pe hai har lahaza nigaah
Jee mein kehate hai ki muft aaye to maal achha hai

*****
11

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार* होता
अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता

* विसाल-ए-यार  =  प्रेमी से मिलन

Ye na thi hamari kismat ki visaal-e-yaar hota
Agar aur jeete rehate yahi intizaar hota

*****
12

छोड़ा न रश्क* ने कि तिरे घर का नाम लूँ
हर इक से पूछता हूँ कि जाऊँ किधर को मैं

रश्क  =  ईर्ष्या

Chhoda na rashq ne ki tire ghar ka naam lun
Har ik se poonchhata hun ki jaaun kidhar ko main

*****
13

दाइम* पड़ा हुआ तिरे दर पर नहीं हूँ मैं
ख़ाक ऐसी ज़िंदगी पे कि पत्थर नहीं हूँ मैं

* दाइम  =  अन्नत

Daaim pada hua tire dar par nahin hun main
Khaak aisi zindagi pe ki pathar nahin hun main

*****
14

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

Dil-e-nadaan tujhe hua kya hai
Aakhir is dard ki dawa kya hai

*****
15

‘ग़ालिब’ बुरा न मान जो वाइज़* बुरा कहे
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे

* वाइज़  =  धर्म उपदेशक

Ghalib bura na maan jo waaiz bura kahe
Aisa bhi koi hai ki sab achha kahein jise

*****
16

हाए उस चार गिरह कपड़े की क़िस्मत ‘ग़ालिब’
जिस की क़िस्मत में हो आशिक़ का गिरेबाँ होना

Haaye us chaar girah kapde ki kismat Ghalib
Jis ki kismat mein ho aashiq ka girebaan hona

******
17

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

Hain aur bhi duniya mein sukhan-war bahut achchhe
Kehate hain ki Ghalib ka hai andaaz-e-bayan aur

*****
18

हम को उन से वफ़ा की है उम्मीद
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है

Ham ko un se wafa ki hai ummeed
Jo nahin jaante wafa kya hai

*****
19

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है

Har ek baat pe kehate ho tum ki tu kya hai
Tumhi kaho ki ye andaaz-e-guftugoo kya hai

*****
20

बुलबुल के कारोबार पे हैं ख़ंदा-हा-ए-गुल
कहते हैं जिस को इश्क़ ख़लल है दिमाग़ काख़ंदा-हा-ए-गुल  =   फूलों की हंसीBulbul ke karobaar pe hain khanda-ha-e-gul
Kehate hain jis ko ishq khalal hain dimaag ka

*****
21

तिरे वादे पर जिए हम तो ये जान झूट जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते अगर ए’तिबार होता

Tire waade par jiye ham to ye jaan jhut jaana
Ki khushi se mar na jaate agar etibaar hota

*****
22

रेख़्ते* के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब’
कहते हैं अगले ज़माने में कोई ‘मीर’ भी था

* रेख्ते  =  उर्दू भाषा का पुराना नाम

Rekhte ke umhin ustaad nahin ho ‘Ghalib’
Kehate hai agale zamaane mein koi ‘Meer’ bhi tha

*****
23

रोने से और इश्क़ में बे-बाक हो गए
धोए गए हम इतने कि बस पाक हो गए

Rone se aur ishq mein be-baak ho gaye
Dhoye gaye ham itne ki bas paak ho gaye

*****
24

रंज* से ख़ूगर* हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं

रंज  =  दुःख, कठिनाई
ख़ूगर  =  आदि

Ranz se khoogar hua insaan to mit jaata hai ranz
Mushqilein mujh par padi itani ki aasaan ho gai
*****
25

तुम सलामत रहो हज़ार बरस
हर बरस के हों दिन पचास हज़ार

Tum salaamat raho hazaar basas
Har baras ke hon din pachaas hazaar

*****
26

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

Un ke dekh se jo aa jaati hai munh par raunak
Wo samjhte hain ki beemar ka haal achchha hai

*****
27

वो आए घर में हमारे ख़ुदा की क़ुदरत है
कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं

Wo aaye ghar mein hamaare khuda ki kudarat hai
Kabhi ham un ko kabhi apne ghar ko dekhte hain

*****
28

यही है आज़माना तो सताना किस को कहते हैं
अदू* के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तिहाँ क्यूँ हो

* अदू  =  दुश्मन, शत्रु

Yahi hai aajmaana to sataana kis ko kehate hai
Adu ke ho liye jab tum to mera imtihan kyun ho

*****
29

ये फ़ित्ना* आदमी की ख़ाना-वीरानी* को क्या कम है
हुए तुम दोस्त जिस के दुश्मन उस का आसमाँ क्यूँ हो

फ़ित्ना  =  शरारती, अराजक
ख़ाना-वीरानी  =   घर की बर्बादी, घर का विनाश

Ye fitna aadmi ki khaana-veerani ko kya kan hai
Hue tum dost jis ke dushman us ka aasmaan kyun hon

*****
30

ज़िंदगी में तो वो महफ़िल से उठा देते थे
देखूँ अब मर गए पर कौन उठाता है मुझे

Zindagi mein to wo mahfil se utha dete the
Dekhoon ab mar gaye par kaun uthata hai mujhe

*****
31

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल

जब आँख से ही न टपका तो फिर लहू क्या है

Ragon mein daudte firne ke ham nahin kaayil

Jab aankh se hi na tapka to phir lahoo kya hai

*****

32

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हाँ

रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन

Karz ki peete the may lekin samjhte the ki haan

rang laavegi hamaari faaka-masti ek din
*****

33

क़ैद-ए-हयात* ओ बंद-ए-ग़म* अस्ल में दोनों एक हैं

मौत से पहले आदमी ग़म से नजात पाए क्यूँ

क़ैद-ए-हयात  =  जीवन की क़ैद

बंद-ए-ग़म  =  ग़मों की क़ैद

Qaid-e-hayaat o band-e-gham asl mein dono ek hain

Maut se pehale aadmi gham se nazaat paaye kyun

*****

34

रोने से और इश्क़ में बे-बाक हो गए

धोए गए हम इतने कि बस पाक हो गए

Rone se aur ishq mein be-baak ho gaye

Dhoye gaye ham itne ki bas paak ho gaye

*****

35

ज़िंदगी में तो वो महफ़िल से उठा देते थे
देखूँ अब मर गए पर कौन उठाता है मुझे

Zindagi mein to wo mahfil se utha dete the

Dekhoon ab mar gaye par kaun uthaata hai mujhe

*****

36

रहिए अब ऐसी जगह चल कर जहाँ कोई न हो

हम-सुख़न कोई न हो और हम-ज़बाँ कोई न हो

Rahiye ab aisi jagah chal kar jahan koi na ho

Ham-sukhan koi na ho aur ham-jabaan koi na ho

*****

37

निकलना ख़ुल्द* से आदम का सुनते आए हैं लेकिन

बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले

खुल्द  =  स्वर्ग

Nikalna khuld se aadam ka sunte aaye hain lekin

Bahut be-aabroo ho kar tire koonche se ham nikale

*****

38

पहले आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी

अब किसी बात पर नहीं आती

Pahle aati thi haal-e-dil pe hansi

Ab kisi baat par nahin aati

*****

39

पिला दे ओक से साक़ी जो मुझ से नफ़रत है

पियाला गर नहीं देता न दे शराब तो दे

Pila de ok se saaki jo mujh se nafrat hai

Piyaala gar nahin deta na de sharaab to de

*****

40

क़ासिद* के आते आते ख़त इक और लिख रखूँ

मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में

क़ासिद  =  दूत, सन्देश वाहक

Kaasid ke aate aate khat ik aur likh rakhun

Main jaanta hun jo wo likhenge jawaab mein

*****

नींद उस की है दिमाग़ उस का है रातें उस की हैं
तेरी ज़ुल्फ़ें जिस के बाज़ू पर परेशाँ* हो गईं

परेशाँ  =  छितराना,

Neend us ki hai dimag us ka hai raatein us ki hain
teri julfein jis ke baajoo par pareshan ho gai

*****
42

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

Mohabbat mein nhin hai fark jeene aur marne ka
Usi ko dekh kar jeete hain jis kaafir pe dam nikale

*****
43

मेहरबाँ हो के बुला लो मुझे चाहो जिस वक़्त
मैं गया वक़्त नहीं हूँ कि फिर आ भी न सकूँ

Meharbaan ho ke bula lo mujhe chaaho jis waqt
Main gaya waqt nahin hun ki phir aa bhi na sakun

*****
44

मेरी क़िस्मत में ग़म गर इतना था
दिल भी या-रब कई दिए होते

Meri kismat mein gham gar itna tha
Dil bhi ya-rab kai diye hote

*****
45

मौत का एक दिन मुअय्यन* है
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती

मुअय्यन  =  निश्चित

Maut ka ek din muayyan hai
Neend kyun raat bhar nahin aati

*****
46

मुझ तक कब उन की बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में

Mujh tak kab un ki bajm mein aata tha daur-e-jaam
Saaki ne kuchh mila na diya ho sharaab mein

*****
47

न लुटता दिन को तो कब रात को यूँ बे-ख़बर सोता
रहा खटका न चोरी का दुआ देता हूँ रहज़न* को

रहज़न  =  चोर, लुटेरे

Na lut ta din ko to kab raat ko yun be-khabar sota
Raha khatka na chori ka dua deta hun rahjan ko

*****
48

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता

Na tha kuchh to khuda tha kuchh na hota to khuda hota
Duboya mujh ko hone ne na hota main to kya hota

*****
49

मरते हैं आरज़ू में मरने की
मौत आती है पर नहीं आती

Marte hain aarjoo mein marne ki
Maut aati hai par nahin aati

*****
50

पूछते हैं वो कि ‘ग़ालिब’ कौन है
कोई बतलाओ कि हम बतलाएँ क्या

Poonchhte hain wo ki ‘Ghalib’ kaun hai
Koi batlaao ki ham batlaayen kya

*****
हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पर दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

Hazaron khwaahishein aisi ki har khwaahish par dam nikale
Bahut nikale mere armaan lekin phir bhi kam nikale

*****
52

हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल को ख़ुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है

Ham ko maaloom hai jannat ki hakikat lekin
Dil ko khush rakhne ko ‘Ghalib’ ye khyaal achcha hai

*****
53

हम कहाँ के दाना* थे किस हुनर में यकता* थे
बे-सबब* हुआ ‘ग़ालिब’ दुश्मन आसमाँ अपना

दाना  =  बुद्धिमान
यकता  =  पारंगत, अद्वितीय, अतुलनीय
बे-सबब  =  अकारण

Ham kahan ke dana the kis hunar mein yakta the
Be-sabab hua ‘Ghalib’ dushman aasman apna

*****
54

हम हैं मुश्ताक़* और वो बेज़ार*
या इलाही ये माजरा क्या है

मुश्ताक़  =  उत्साही, इच्छुक
बेज़ार  =  शिथिल, निरुत्साही

Ham hain mushtaak aur wo bejaar
Ya ilaahi ye maajra kya hai

*****
55

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

Is saadagi pe kaun na mar jaaye ae khuda
Ladte hain aur haath mein talwaar bhi nahin

*****
56

हम ने माना कि तग़ाफ़ुल* न करोगे लेकिन
ख़ाक हो जाएँगे हम तुम को ख़बर होते तक

तग़ाफ़ुल  –  उपेक्षा

Ham ne maana ki tagaaful na karoge lekin
Khaak ho jaayenge ham tum ko khabar hone tak

*****
57

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती

Ham wahan hai jahan se ham ko bhi
Kuchh hamari khabar nahin aati

*****
58

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है

Har ek baat pe kehate ho tum ki tu kya hai
Tumhin kaho ki ye andaaz-e-guftugoo kya hai

*****
59

हवस को है नशात-ए-कार* क्या क्या
न हो मरना तो जीने का मज़ा क्या

नशात-ए-कार  =  उन्माद

Hawas ko hai nashaat-e-kaar kya kya
Na ho marna to jeene ka maza kya

*****
60

आए है बे-कसी-ए-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’
किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बला* मेरे बाद

* सैलाब-ए-बला  =  दुर्भाग्य का सैलाब

Aaye hai be-kasi-e-ishq pe rona Ghalib
Kis ke ghar jaayega sailaab-e-bala mere baad

*****
इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के

Ishq ne ‘Ghalib’ nikamma kar diya
Warna ham bhi aadmi the kaam ke

****
62
इशरत-ए-क़तरा* है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

इशरत-ए-क़तरा  =  बूंद का सुख

Ishrat-e-qatra hai dariya mein fana ho jaana
Dard ka had se gujarna hai dawa ho jaana

*****
63
इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतश ‘ग़ालिब’
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने

Ishq par jor nahin hain ye wo aatash ‘Ghalib’
Ki lagaaye na lage aur bujhaaye na bane

*****
64

जब तवक़्क़ो* ही उठ गई ‘ग़ालिब’
क्यूँ किसी का गिला करे कोई

तवक़्क़ो  =  उम्मीद
गिला  =  शिकायत, दोष

Jab tavkko hi uth gai ‘Ghalib’
Kyun kisi ka gila kare koi

*****
65

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तुजू* क्या है

जुस्तुजू  =  तलाश

Jala hai jism jahan dil bhi jal gaya hoga
Kuredte ho jo ab raakh justujoo kya hai

*****
66

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत के रात दिन
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ* किए हुए

तसव्वुर-ए-जानाँ  =  प्रेमिका के बारे में सोचना

Jee dhoondta hai fir wahi fursat ke raat din
Baithe rahein tasvvur-e-jaana kiye hue

*****
67

कब वो सुनता है कहानी मेरी
और फिर वो भी ज़बानी मेरी

Kab wo sunta hai kahani meri
Aur phir wo bhi jabaani meri

*****
68

कभी नेकी भी उस के जी में गर आ जाए है मुझ से
जफ़ाएँ कर के अपनी याद शरमा जाए है मुझ से

Kabhi neki bhi us ke jee mein gar aa jaaye hai mujh se
Jafaayen kar ke apni yaad sharma jaaye hai mujh se

*****
69

कहते हैं जीते हैं उम्मीद पे लोग
हम को जीने की भी उम्मीद नहीं

Kehate hai jeete hain ummeed pe log
Ham ko jeene ki bhi ummeed nahin

.*****
70

की वफ़ा हम से तो ग़ैर इस को जफ़ा कहते हैं
होती आई है कि अच्छों को बुरा कहते हैं

Ki wafa ham se to gair is ko jafa kehate hai
Hoti aai hai ki acchon ko bura kehate hain

*****

Tags

Related Articles

Leave a Reply