Contemporary Hindi-Urdu PoetryDushyant KumarGhazal

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिएहो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए

Tags

Related Articles

Leave a Reply