featuredGulzar

लकीरे है तो रहने दो / Gulzar

लकीरे है तो रहने दो

लकीरे है तो रहने दो
किसी ने रूठ कर गुस्से में शायद खीच दी थी,
इन्ही को अब बनायो पाला और आयो कबड़ी खेलते है,

Lakeerein hain to rehne do,
Kisi ne rooth kar gusse mein shayad kheech di thi.
Unhi ko ab banao paala aur aao kabaddi khelte hain.

English Translation:
These lines that divide us, let them be.
Someone must have etched them in a fit of rage.
Let us use them to divide the field into two halves and play kabbadi.


 

Nazm uljhi hui hai seene mein

“Nazm uljhi hui hai seene mein
misare atke hue hain hothon par
udate phirte hain titaliyon ki tarah
lafz kaagaz pe baithate hi nahin
kab se baithaa hun main jaanam
saade kaagaz pe likh ke naam tera
bas tera naam hi mukammal hai
isse behtar bhi nazm kyaa hogi” (Nazm)

So simple yet so beautiful..


 

Roz sahil pe khade hoke yahi dekha hai

Roz sahil pe khade hoke yahi dekha hai
Shaam ka pighla hua surkh-sunhari rogan
Roz matiyale-se paani mein yeh ghul jaata hai

Roz sahil pe khade hoke yahi socha hai
Mein jo pighali huee rangeen shafaq ka rogan
Ponchh loo haathon pe

Aur chpuke se ik baar kabhi
Tere gulnaar se rukhsaaron pe chhap se mal doon
Shaam ka pighala hua surkh-sunhari rogan


उसे फिर लौट कर जाना है ये मालूम था उस वक़्त भी
जब शाम की सुर्ख-ओ-सुनहरी रेत पर वो दौड़ती आई थी
और लहरा के यूँ आगोश में बिखरी थी
जैसे पूरा का पूरा समंदर ले के उमड़ी है
उसे जाना है वो भी जानती तो थी
मगर हर रात फिर भी हाथ रखकर चाँद पर खाते रहे कसमें
ना मैं उतरूँगा उस साँसों के साहिल से
ना वो उतरेगी मेरे आसमाँ पर झूलते तारों की पींगों से
मगर जब कहते कहते दास्ताँ, फिर वक़्त ने लम्बी जम्हाई ली
ना वो ठहरी, ना मैं ही रोक पाया था
बहुत फूँका सुलगते चाँद को,
फिर भी उसे  इक इक कला घटते हुए देखा
बहुत खींचा समंदर को मगर साहिल तलक हम ला नहीं पाए
सहर के वक़्त, फिर उतरे हुए साहिल पे इक
डूबा हुआ, खाली समंदर था |

Video Reference – From Movie “Dus Kahaniyan” in the voice of “Manoj Bajpai”

Tags

Related Articles