featuredHindi-Urdu Poetryराहत इन्दौरी

राहत इन्दौरी : कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं है

कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं है
रात के साथ गयी बात मुझे होश नहीं

kitanii pii kaise kaTii raat mujhe hosh nahiin
raat ke saath gaii baat mujhe hosh nahiin

मुझ को ये भी नहीं मालूम की जाना है कहाँ
थाम ले कोई मेरा हाथ मुझे होश नहीं

mujhako ye bhii nahiin maaloom ki jaanaa hai kahaan
thaam le koii meraa haath mujhe hosh nahiin

आंसूंओं और शराबों में गुज़र है अब तो
मैं ने कब देखी थी बरसात मुझे होश नहीं

aansuon aur sharaabon men gujaarii hai hayaat
main ne kab dekhii thii barasaat mujhe hosh nahiin

जाने क्या टूटा है पैमाना की दिल है मेरा
बिखरे बिखरे हैं खयालात मुझे होश नहीं

jaane kyaa TooTaa hai paimaanaa ki dil hai meraa
bikhare-bikhare hain khayaalaat mujhe hosh nahiin

Related Articles