Contemporary Hindi-Urdu PoetryGhazalजावेद अख़तर

मैं भूल जाऊं तुम्हें अब यही मुनासिब है

मैं भूल जाऊं तुम्हें अब यही मुनासिब है

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Check Also

Close