featuredHala

बोतल छुपा दो कफ़न में मेरे

बोतल छुपा दो कफ़न में मेरे

बोतल छुपा दो कफ़न में मेरे
शमशान में पिया करूंगा,
जब खुदा मांगेगा हिसाब
तो पैग बना के दिया करूंगा

पी के रात को हम उनको भुलाने लगे

पी के रात को हम उनको भुलाने लगे
शराब मे ग़म को मिलाने लगे
ये शराब भी बेवफा निकली यारो
नशे मे तो वो और भी याद आने लगे !

बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये

बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये;
कि वो आज नजरों से अपनी पिलायें;
मजा तो तब है पीने का यारो;
इधर हम पियें और नशा उनको आये।

मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती

मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती
मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती
सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!

Tags

Related Articles

Leave a Reply