GhazalHindi-Urdu Poetryबशीर बद्र

कभी यूँ भी आ मेरी आँख में, के मेरी नज़र को ख़बर न हो

 

कभी यूँ भी आ मेरी आँख में, कि मेरी नज़र को ख़बर न हो
मुझे एक रात नवाज़ दे, मगर उसके बाद सहर न हो

kabhii yoon bhii aa merii aankh men, ki merii najr ko khbar n ho
mujhe ek raat navaaj de, magar usake baad sahar n ho

वो बड़ा रहीमो-करीम है, मुझे ये सिफ़त भी अता करे
तुझे भूलने की दुआ करूँ तो मेरी दुआ में असर न हो

vo baDaa rahiimo-kariim hai, mujhe ye sift bhii ataa kare
tujhe bhoolane kii duaa karoon to merii duaa men asar n ho

मेरे बाज़ुओं में थकी-थकी, अभी महवे- ख़्वाब है चाँदनी
न उठे सितारों की पालकी, अभी आहटों का गुज़र न हो

mere baajuon men thakii-thakii, abhii mahave- khvaab hai chaandanii
n uThe sitaaron kii paalakii, abhii aahaTon kaa gujr n ho

ये ग़ज़ल है जैसे हिरन की आँखों में पिछली रात की चाँदनी
न बुझे ख़राबे की रौशनी, कभी बे-चिराग़ ये घर न हो

ye gjl hai jaise hiran kii aankhon men pichhalii raat kii chaandanii
n bujhe khraabe kii raushanii, kabhii be-chiraag ye ghar n ho

कभी दिन की धूप में झूम कर, कभी शब के फूल को चूम कर
यूँ ही साथ-साथ चले सदा, कभी ख़त्म अपना सफ़र न हो

kabhii din kii dhoop men jhoom kar, kabhii shab ke fool ko choom kar
yoon hii saath-saath chale sadaa, kabhii khtm apanaa safr n ho

मेरे पास मेरे हबीब आ, ज़रा और दिल के करीब आ
तुझे धड़कनों में बसा लूँ मैं, कि बिछड़ने का कभी डर न हो

mere paas mere habiib aa, jraa aur dil ke kariib aa
tujhe dhaDkanon men basaa loon main, ki bichhaDne kaa kabhii Dar n ho

Read another beautiful poetry of Bashir Badr.

अभी इस तरफ़ न निगाह कर, मैं ग़ज़ल की पलकें संवार लूँ

Tags

Related Articles

Leave a Reply