GhazalHindi-Urdu Poetryबशीर बद्र

अभी इस तरफ़ न निगाह कर, मैं ग़ज़ल की पलकें संवार लूँ

अभी इस तरफ़ न निगाह कर मैं ग़ज़ल की पलकें सँवार लूँ
मेरा लफ़्ज़-लफ़्ज़ हो आईना तुझे आईने में उतार लूँ

abhii is taraf n nigaah kar main gjl kii palaken sanvaar loon
meraa lafj-lafj ho aaiinaa tujhe aaiine men utaar loon

मैं तमाम दिन का थका हुआ, तू तमाम शब का जगा हुआ
ज़रा ठहर जा इसी मोड़ पर, तेरे साथ शाम गुज़ार लूँ

main tamaam din kaa thakaa huaa, too tamaam shab kaa jagaa huaa
jraa Thahar jaa isii moD par, tere saath shaam gujaar loon

अगर आसमाँ की नुमाइशों में मुझे भी इज़्न-ए-क़याम हो
तो मैं मोतियों की दुकान से तेरी बालियाँ तेरे हार लूँ

agar aasamaan kii numaaishon men mujhe bhii ijn-e-kyaam ho
to main motiyon kii dukaan se terii baaliyaan tere haar loon

कई अजनबी तेरी राह के मेरे पास से यूँ गुज़र गये
जिन्हें देख कर ये तड़प हुई तेरा नाम लेके पुकार लूँ

kaii ajanabii terii raah ke mere paas se yoon gujr gaye
jinhen dekh kar ye taDp huii teraa naam leke pukaar loon

Read another beautiful poetry of Bashir Badr.

कभी यूँ भी आ मेरी आँख में, के मेरी नज़र को ख़बर न हो

Tags

Related Articles

Leave a Reply